Chandra Grahan 2020 Live Updates: कल लगने वाला चंद्र ग्रहण इन जगहों पर दिखाई देगा, जानिए ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या न करें

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

खास बातें

Chandra Grahan 2020: 5 जुलाई को चंद्र ग्रहण है। यह उपच्छाया चंद्र ग्रहण है। 30 दिनों के अंदर यह तीसरा ग्रहण होगा। इसके पहले 5 जून और 21 जून को सूर्य और चंद्र ग्रहण लगा था। आषाढ़ माह की पूर्णिमा पर यह चंद्र ग्रहण लग रहा है इस दिन गुरु पूर्णिमा का पर्व भी मनाया जाएगा। ऐसा संयोग तीसरी बार बन रहा है जब चंद्र ग्रहण और गुरु पूर्णिमा एक ही तिथि पर पड़ रही है। इससे पहले 2019 और 2018 में बना था।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 5 जुलाई को लगने वाला चंद्र ग्रहण धनु राशि में लगेगा। 

लाइव अपडेट

07:49 PM, 04-Jul-2020

पौने तीन घंटे तक रहेगा चंद्र ग्रहण

साल 2020 का तीसरा चंद्र ग्रहण गुरु पूर्णिमा की तिथि पर लग रहा है। यह चंद्र ग्रहण कुल मिलाकर पौने तीन घंटे तक रहेगा। चंद्र ग्रहण सुबह 8 बजकर 38 मिनट से शुरू होगा और 11 बजकर 21 मिनट पर खत्म हो जाएगा। 

07:45 PM, 04-Jul-2020

 कहां- कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण

5 जुलाई को चंद्र ग्रहण ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और युरोप के देशों में देखा जा सकेगा। यह चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा जिस कारण से इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा। इसमें किसी भी तरह का शुभ कार्य संपन्न किया जा सकता है। चंद्र ग्रहण 5 जुलाई की सुबह 8 बजकर 38 मिनट से शुरू होगा और इसका मोक्ष काल 11 बजकर 21 मिनट तक रहेगा। यह उपच्छाया चंद्र ग्रहण हो जिसमें चांद के आकार में किसी भी तरह का कोई भी परिवर्तन देखने को नहीं मिलेगा। 
 

07:16 PM, 04-Jul-2020

ग्रहण के दौरान सावधानियां

शास्त्रों में बताया गया है कि ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या नहीं करना चाहिए। ग्रहण के दौरान और सूतक काल लगने पर किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता है। ग्रहण के दौरान सभी तरह के खाने की चीजों में तुलसी के पत्ते डालने चाहिए। ग्रहण के दौरान मंदिर के दरवाजे और पर्दे बंद कर दिए जाते है। इस दौरान भगवान की मूर्तियों को नहीं छूना चाहिए। ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को विशेष ध्यान देना चाहिए। चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्रमा से संबंधित मंत्रों का जाप करना चाहिए।
 

07:05 PM, 04-Jul-2020

चौथा चंद्र ग्रहण कब?
5 जुलाई का चंद्र ग्रहण साल का तीसरा चंद्र ग्रहण है। इसके बाद साल 2020 का आखिरी और चौथा चंद्रग्रहण 30 नवंबर को होगा। यह ग्रहण भी उपच्छाया चंद्रग्रहण होगा। ग्रहण वृषभ राशि और रोहिणी नक्षत्र में घटित होगा।

06:42 PM, 04-Jul-2020

ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए करें ये आसान उपाय

कल लगने वाला चंद्र प्रभावकारी नहीं है। परंतु चंद्र ग्रहण के अशुभ प्रभावों को नष्ट करने के लिए अगले दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें। स्नान के बाद चंद्र ग्रहण के पश्चात चावल और सफेद तिल का दान करें और अपने से बड़ों का आशीर्वाद अवश्य लें। यह सरल उपाय आपको ग्रहण के अशुभ प्रभावों से मुक्त करेगा। इसके अलावा आप किसी विद्वान ज्योतिषी की सलाह से चंद्र ग्रहण के अशुभ प्रभावों से बचने की सलाह ले सकते हैं।

06:35 PM, 04-Jul-2020

चंद्र ग्रहण का मन पर पड़ता है सीधा प्रभाव

चंद्र ग्रहण का प्रभाव सीधे व्यक्ति के मन पर पड़ता है। इसके साथ ही यह माता जी को भी प्रभावित करता है। ज्योतिष में चंद्र ग्रहण को मन और माता का कारक माना जाता है। इसलिए जिन लोगों की कुंडली में चंद्रमा पीड़ित अवस्था में हो उन्हें ग्रहण के दौरान चंद्र ग्रह की शांति के उपाय करने चाहिए। इस समय मन को एकाग्र करने के लिए ध्यान क्रिया उत्तम होती है। 

06:23 PM, 04-Jul-2020

वर्ष का चौथा और आखिरी चंद्र ग्रहण लगेगा इस दिन

साल 2020 में चार चंद्र ग्रहण हैं। इस साल का पहला चंद्र 10 जनवरी में लगा था और साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून को था। वहीं जो कल यानी 5 जुलाई को लगेगा यह इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण होगा। जबकि 30 नवंबर को चौथा और वर्ष का आखिरी चंद्र ग्रहण लगेगा। इसके अलावा इस साल के खाते में दो सूर्य ग्रहण हैं। साल का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून को था, जो बीत गया है। वहीं साल का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर को लगेगा।

06:17 PM, 04-Jul-2020

क्या ग्रहण को नग्न आंखों से देख सकते हैं?

वैज्ञानिकों के अनुसार, चंद्र ग्रहण को आप नग्न आंखों से तो देख सकते हैं लेकिन सूर्य ग्रहण को नहीं। क्योंकि सूर्य ग्रहण से आपकी आंखों को नुकसान पहुंच सकता है। सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सोलर फिल्टर वाले चश्मों का प्रयोग करना चाहिए। लेकिन कल जो चंद्र ग्रहण लग रहा है वह उपच्छाया चंद्र ग्रहण है। इसमें चंद्रमा के आकार पर कोई फर्क नहीं पड़ता है। इसे आप नग्न आंखों से नहीं देख पाएंगे। इसके लिए आपको टेलिस्कोप की आवश्यकता होगी। 

06:13 PM, 04-Jul-2020

चंद्र ग्रहण के अशुभ प्रभावों से बचने के लिए क्या करें

धार्मिक नजरिए से ग्रहण को अशुभ घटना के रूप में देखा जाता है। इसलिए चंद्र ग्रहण के दौरान इसके अशुभ प्रभाव से बचने के लिए चंद्र ग्रह से संबंधित मंत्रों का जाप करना चाहिए। चंद्र ग्रह के बीज मंत्र ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्रमसे नमः का 108 बार जाप करने से ग्रहण के अशुभ प्रभावों से बचा जा सकता है। इसके अलावा चंद्र यंत्र की पूजा करने से भी ग्रहण के अशुभ प्रभावों से छुटकारा मिलता है।

06:07 PM, 04-Jul-2020

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को देना होगा खास ध्यान

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को खास ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। हालांकि कल लगने वाला ग्रहण प्रभावकारी नहीं है। मान्यता के अनुसार, कहा जाता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को नुकीली चीजों और तेजधार वाले औजारों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि इसका बुरा असर गर्भ में पल रहे शिशु के शरीर पर पड़ता है। सूतक काल में तो उन्हें घर से भी बाहर नहीं निकलना चाहिए।

06:03 PM, 04-Jul-2020

पूर्णिमा तिथि पर ही लगता है चंद्र ग्रहण 

चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा तिथि के दिन ही लगता है। खास बात ये है कि पिछले लगातार तीन साल से गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है। लेकिन हर पूर्णिमा तिथि को यह नहीं लगता है। खगोल विज्ञान के अनुसार पूर्णिमा तिथि पर चंद्र ग्रहण का कारण पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा की कक्षा का झुका होना है। यह झुकाव 5 अंश का है। इसलिए हर पूर्णिमा तिथि पर चंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश नहीं करता है।

05:57 PM, 04-Jul-2020

चंद्र ग्रहण को लेकर धार्मिक मान्यताएं

विज्ञान जहां चंद्र ग्रहण को महज एक खगोली घटना मानता है। वहीं धार्मिक मान्यता के अनुसार, ग्रहण को अशुभ घटना के रूप में देखा जाता है। इसलिए इस दौरान कई कार्यों को वर्जित माना गया है। खासकर शुभ कार्यों को। ग्रहण के दौरान पूजा-पाठ नहीं की जाती है और न ही देवी-देवताओं की मूर्तियों को स्पर्श किया जाता है। मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं। फिर ग्रहण समाप्ति के बाद शुद्धिकरण की प्रक्रिया होती है। 

05:54 PM, 04-Jul-2020

चंद्र ग्रहण के होते हैं तीन प्रकार

चंद्र ग्रहण तीन प्रकार से लगते हैं। इनमें पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण, दूसरा आंशिक और तीसरा उपच्छाया चंद्र ग्रहण होता है। खगोल विज्ञान के अनुसार जब सूर्य चंद्रमा और पृथ्वी तीनों एक ही रेखा में हों और सूर्य व चंद्रमा के बीच में पृथ्वी आकर चंद्रमा को पूरी तरह ढक ले तो इसे पूर्ण चंद्र ग्रहण कहते हैं जबकि आंशिक चंद्र ग्रहण में पृथ्वी चंद्रमा को आंशिक रूप में ढकती है। ज्योतिष में उपच्छाया चंद्र ग्रहण को प्रभाव शून्य माना जाता है।

05:45 PM, 04-Jul-2020

उपच्छाया चंद्र ग्रहण दिखाई देता है ऐसा

कल लगने वाला ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। दरअसल, उपच्छाया चंद्र ग्रहण में चांद के आकार में किसी भी तरह का कोई फेरबदल नहीं होता है। इस चंद्र ग्रहण में चांद के ऊपर पृथ्वी की छाया पड़ने से चंद्रमा पर एक हल्की सी धूल जैसी छाया पड़ती है। इसी को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं। यह घटना नग्न आंखों से दिखाई नहीं देगी, बल्कि इसे देखने के लिए वैज्ञानिक उपकरणों का प्रयोग किया जाता है।

05:39 PM, 04-Jul-2020

ज्योतिषीय नजरिए से चंद्र ग्रहण

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 5 जुलाई को लगने वाला चंद्र ग्रहण धनु राशि में लगेगा। उसी समय धनु राशि में गुरु और राहु मौजूद रहेगा। ऐसे में ग्रहण के दौरान गुरु की द्दष्टि धनु राशि पर रहने के कारण ग्रहण का प्रभाव धनु राशि पर पड़ेगा। इस दौरान धनु राशि के जातकों का मन अशांत रह सकता है। माता जी को किसी प्रकार की परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है। मन की शांति के लिए ध्यान क्रिया को अपनाने की सलाह दी जाती है।

05:29 PM, 04-Jul-2020

गुरु पूर्णिमा पर लग रहा है यह ग्रहण

यह चंद्र ग्रहण गुरु पूर्णिमा के दिन लग रहा है। यानी गुरु पूर्णिमा उत्सव पर चंद्र ग्रहण का साया रहेगा। गुरु पूर्णिमा पर्व हिन्दू धर्म का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। यह पर्व हर साल आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन मनाया जाता है। यह तिथि पांच जुलाई को पड़ रही है। गुरु पूर्णिमा को गुरु उत्सव के रूप में भी जाना जाता है। गुरु पूर्णिमा का उत्सव गुरु के प्रति श्रद्धा, आदर और कृतज्ञता को दर्शाता है। 

05:24 PM, 04-Jul-2020

चंद्र ग्रहण में नौ घंटे पहले लग जाता है ग्रहण

चंद्र ग्रहण में सूतक काल ग्रहण लगने से नौ घंटे पूर्व ही लग जाता है। वहीं सूर्य ग्रहण में यह ग्रहण के समय से 12 घंटे पहले ही लगता है। सूतक काल लगने के बाद से ही एक प्रकार से ग्रहण का प्रभाव शुरू हो जाता है। सूतक काल में खाना खाना अथवा उसे पकाना वर्जित माना जाता है। इस दौरान गर्वभवती महिलाओं को भी विशेष सावधानी बरतनी होती है। दरअसल ग्रहण एक अशुभ घटना होती है। सूतक काल ग्रहण समाप्ति के साथ ही खत्म होता है।

05:16 PM, 04-Jul-2020

भारत में ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा

कल गुरु पूर्णिमा के दिन लगने वाला चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, लेकिन ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, अफ्रीका एवं एशिया के कुछ हिस्सों में नजर आएगा। भारत में दिखाई न देने के कारण यहां पर ग्रहण का सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। ग्रहण में लगने वाला सूतक काल एक अशुभ समय होता है, जिसमें कई शुभ कार्यों को नहीं किया जाता है। पूजा पाठ में रोक लग जाती है। मंदिरों के कपाट बंद कर दिये जाते हैं आदि।

05:10 PM, 04-Jul-2020

एक महीने के भीतर यह तीसरा ग्रहण है

30 दिनों के भीतर 3 ग्रहण लग चुके हैं। 5 जुलाई यानी आज लग रहे ग्रहण से पहले दो और ग्रहण लग चुके हैं। 5 जून को चंद्र ग्रहण लगा था फिर 21 जून को सूर्य ग्रहण और अब 5 जुलाई को तीसरा चंद्र ग्रहण। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 30 दिनों में तीन ग्रहण का अपना प्रभाव होता है। इनमें 5 जून को लगने वाला चंद्र उपच्छाया था, सूर्य ग्रहण वलयाकार था और कल होने वाला चंद्र ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा।

05:07 PM, 04-Jul-2020

चंद्र ग्रहण का समय

यह उपच्छाया चंद्र ग्रहण कल भारतीय समय के अनुसार सुबह 8 बजकर 38 मिनट से शुरू हो जाएगा और 11 बजकर 21 मिनट तक इस खगोलीय घटना को देखा जा सकता है। ग्रहण सुबह 9 बजकर 59 मिनट पर चंद्र ग्रहण अपने चरम पर होगा। कुल मिलाकर इस चंद्र ग्रहण का पूरा समय 2 घंटे 45 मिनट तक रहेगा। इस चंद्र ग्रहण को यूरोप, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के कई हिस्सों में देखा जा सकेगा। 

04:36 PM, 04-Jul-2020

Chandra Grahan 2020 Live Updates: कल लगने वाला चंद्र ग्रहण इन जगहों पर दिखाई देगा, जानिए ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या न करें

कल साल का तीसरा चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। यह चंद्र ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। जिसमें चांद के आकार में किसी भी तरह का कोई भी परिवर्तन नहीं होता है। चांद के कुछ एक हिस्से में मात्र पृथ्वी की छाया पड़ेगी। 30 दिनों के अंतराल में यह तीसरा ग्रहण है इसके पहले 21 जून को चूड़ामणि सूर्य ग्रहण लगा था जिसमें सूर्य सोने के कंगन की तरह दिखाई दिया था। वहीं 5 जून को भी उपच्छाया चंद्र ग्रहण था। यह चंद्र भारत में दिखाई नहीं देगा। जिस कारण से इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा। ग्रहण अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। इस उपच्छाया चंद्र ग्रहण का कुल समय लगभग पौने तीन घंटे का रहेगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *